loader

About Us

  • Home    >
  • About Us

Parichay Shri Naresh Kumar Dhal

about_img

Mata Shanti Devi Dhal Sevadham (Reg.) has established by Bhai Naresh Kumar Dhall Ji and faithful persons and service man coming to this Dham(Dwelling). This dham has established by Bhai Naresh Kumar Dhall Ji in his homes premises (Parisar). He treats many type of diseases by chanting (Nam Lekar) Shri Ram ji without any medicine only by his hands touch and massage by his hand made oil from 6am to 5pm on every Sunday and Thursday.


Here, many of such diseases have treated, which could not cared by big Doctors, Vaid, and Hospitals. Bhai Naresh Ji, has cured Migraine, Half headache pain, Paralysis, Numbness in parts of the body (sharer ka ango ka sun ho jana), Knees Pain, Back Pain, Survical, Arthritis and other Psychosis. He believes his inspiration of treatments god gifted and blessing of his ancestor(Purvaj) given him in the form of Seven jhaada.


Patients are treated without any fee or charge in this Dham(Dwelling). Bhai Naresh Ji believe that cured diseases is the biggest fee for him he believes himself blessed by getting only blessing of people.

परिचय : सेवक श्री नरेश कुमार ढल

about_img

माता शांति देवी ढल सेवाधाम (पंजी) की स्थापना भाई नरेश कुमार ढल जी, व् इस सेवा धाम में आने वाले श्रद्धालुओं व् सेवादारो द्वारा की गई है | यह धाम भाई नरेश कुमार ढल जी ने अपने घर के परिसर में बनाया हुआ है वह हर रविवार और वीरवार को सुबह 6 बजे से 5 बजे तक इस धाम में कई प्रकार की कई बिमारियों का इलाज बिना किसी दवा के केवल अपने हाथो के स्पर्श और अपने द्वारा बनाये गए तेल की मालिश से श्री राम जी का नाम लेकर करते है |

यहाँ पर ऐसे रोगों का इलाज होता है जिनका निवारण बड़े से बड़े डॉक्टर वैध और अस्पताल आदि भी नही कर पाए | भाई नरेश जी ने माइग्रेन, आधा सिर का दर्द , लकवा ,शारीर के अंगो का सुन्न हो जाना, घुटनों का दर्द, कमर का दर्द, सरवाईकल, आर्थ्राइटिस तथा अन्य मोनोविकार आदि का इलाज करते है | अपने इलाज करने की प्रेरणा को वे भगवान की देन व् अपने पूर्वजो द्वारा दिए गए आशीर्वाद के रूप में दिए गए सात झाड़ों को मानते है |

इस धाम में मरीजों का इलाज बिना किसी फीस या शुल्क के किया जाता है | भाई नरेश जी मानते है की बिमारी का ठीक होना ही उनके लिए सबसे बड़ा शुल्क है | वह केवल लोगो के आशीर्वाद को पाने मात्र से ही अपने आप को धन्य समझते है |

इस मंदिर मै ना पैसा चाहिए और ना चाहिए नाम अपना आशीर्वाद देकर बोले जय श्री राम !